बाजार अवलोकन

एमए क्या है

एमए क्या है
एमए इंटरनेशनल (M.A International Relations Course kya hai) रिलेशन्स कोर्स को करने के बाद कैंडिडेट की एनुअल सैलरी 2 लाख से 18 लाख रूपये पर एनम तक हो सकती है आपकी ये सैलरी आपके नॉलेज, स्किल्स पर डिपेंड करता है और आपने ये कोर्स कहाँ से किया है इस पर भी डिपेंड करेगा.

M.A International Relations Course kya hai

MA full form in Hindi

MA full form in Hindi- आज का हमारा विषय एमए फुल फॉर्म इन हिंदी है, यानीकि हम आज एमए की फुल फॉर्म के बारे में जानकारी देंगे और साथ ही में एमए कैसे करें और किस सब्जेक्ट से करना चाहिए, इसके बारे में भी बताएंगे।

एमए का फुल फॉर्म मास्टर ऑफ आर्ट्स होता है। इसको हिंदी में कला में परास्नातक कहा जाता है। अगर आप भी बीए कर चुके हैं तो आप एम की डिग्री हासिल कर सकते हैं। आज के समय मे लगभग सभी डिग्री कॉलेजेस में एमए कोर्स कराया जाता है।

एमए कैसे करें

अनेक स्टूडेंट्स का ये सवाल रहता है कि एमए कैसे करें तो हम आपको बता दें कि सबसे पहले आप अपनी रुचि को देखे कि आप किस सब्जेक्ट में एमए करना चाहते हैं। आपकों जिस भी फील्ड में जाना हो उसी फील्ड में आप एमए करें।

एमए के बाद जॉब कैसे मिलेगी?

बहुत से लोग ये सोंचते हैं कि एमए के बाद जॉब नही मिलती है, जबकि ऐसा बिल्कुल गलत है। हर फील्ड में स्कोप है और हर फील्ड में जॉब भी हैं। मान लीजिए अगर आपने हिंदी में एमए किया है, तो इसके बाद भी काफी अच्छे कैरियर के ऑप्शन होते हैं। हिंदी से एमए के बाद आप पत्रकारिता कर सकते हैं, ट्रांसलेटर बन सकते हैं, आप हिंदी कंटेंट राइटर बन सकते हैं। हिंदी डबिंग आर्टिस्ट बन सकते हैं। अगर राइटिंग स्किल अच्छी है तो फ़िल्म स्क्रीन प्ले राइटर भी आप बन सकते हैं।

यंहा तक कि बॉलीवुड फिल्मों में बहुत से ऐसे कलाकर हैं और आगे भी आते रहेंगे, जिनको हिंदी नही आती है तो आप इनको हिंदी बोलना सीखा सकते हैं, जिसका आप कई लाख रुपये चार्ज ले सकते हैं। इतना ही नही हिंदी से एमए करने के बाद आप हिंदी टीचर बन सकते हैं। वंही अगर यूजीसी नेट एग्जाम पास कर लेते हैं तो आप असिस्टेंट प्रोफेसर भी बन सकते हैं। इस तरह से जॉब की किसी भी सेक्टर में कमी नही है। कमी है तो आपके अंदर नॉलेज की। अगर आपको फील्ड की नॉलेज है तो जॉब एक से बढ़कर एक मिलेंगी। जॉब पाने के लिए आपके अंदर कुछ नॉलेज तो होना ही चाहिए।

M.A इंटरनेशनल रिलेशन्स कोर्स क्या है?

M.A इंटरनेशनल रिलेशन्स का फुल फॉर्म Master of Arts in International Relations है. एमए इंटरनेशनल रिलेशन एक पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स है ये कोर्स 2 साल का होता है इस कोर्स में कंटेम्पररी इंटरनेशनल रिलेशन्स, स्ट्रेटेजी, रीजनल स्टडीज, और फार्मेशन ऑफ़ पब्लिक पॉलिसीस एंड दियर एडमिनिस्ट्रेशन आदि आते हैं. इस कोर्स को करने वाले स्टूडेंट्स की क्रिएटिव स्किल्स काफी इम्प्रूव होती है जिससे वो अच्छा परफॉर्म कर पाते हैं.

एमए इंटरनेशनल रिलेशन्स कोर्स को करने के लिए स्टूडेंट्स के एमए क्या है पास बैचलर डिग्री होना जरूरी है और बैचलर डिग्री में आपका स्कोर 60% होना चाहिए. इस कोर्स में रिजर्व्ड केटेगरी कैंडिडेट को छूट दी जाती है ये आपके पर डिपेंड करता है क्युकी ये कोर्स आपको कई सारे प्राइवेट, गवर्नमेंट और डीम्ड यूनिवर्सिटी में एमए क्या है मिल जायेगा और सभी का क्राइटेरिया थोड़ा सा अलग-अलग हो सकता है.

M.A इंटरनेशनल रिलेशन्स कोर्स करने के लिए एडमिशन प्रोसेस क्या है?

एमए इंटरनेशनल रिलेशन्स कोर्स को करने के लिए आप एंट्रेंस टेस्ट और मेरिट बेस पर दोनों तरह से एडमिशन ले सकते हैं. मेरिट बेस पर एडमिशन में आपकी बैचलर डिग्री के मार्क्स में आधार पर एडमिशन दिया जाता है और एंट्रेंस टेस्ट प्रोसेस में आपको कॉलेज या यूनिवर्सिटी द्वारा कंडक्ट किये गये एंट्रेंस टेस्ट को पास करना होगा. आप एंट्रेंस एग्जाम में अच्छा परफॉर्म करके एक बेस्ट कॉलेज में एडमिशन ले सकते हैं.

इस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आप इन कॉलेजेज में एडमिशन ले सकते हैं

जवाहरलाल नहरू यूनिवर्सिटी, दिल्ली,

जामिया मिल्लिया इस्लामिया, दिल्ली,

एसआरएम यूनिवर्सिटी ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी, चेन्नई,

यूनिवर्सिटी ऑफ़ मद्रास, चेन्नई,

M.A इंटरनेशनल रिलेशन्स कोर्स को करने के लिए फीस कितनी लगती है?

एमए इंटरनेशनल रिलेशन्स कोर्स करने के लिए एवरेज फीस 6 हजार से 3 एमए क्या है लाख रूपये तक हो सकती है आपकी ये फीस आपके कॉलेज पर भी डिपेंड करती है कि आप किस कॉलेज में एडमिशन ले रहे हैं.

इस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आपको इन कुछ एंट्रेंस एग्जाम को पास करना पड़ता है

JNUEE– ये एंट्रेंस एग्जाम जवाहरलाल नेहरु यूनिवर्सिटी द्वारा कंडक्ट किया जाता है.

Pondicherry यूनिवर्सिटी एंट्रेंस एग्जाम

TANCET– ये एंट्रेंस एग्जाम अन्ना (Anna) यूनिवर्सिटी द्वारा कंडक्ट किया जाता है.

HPCET– हिमाचल प्रदेश कॉमन एंट्रेंस टेस्ट.

इन सभी एंट्रेंस एग्जाम में 4 सेक्शन होते हैं पॉलिटिकल साइंस, हिस्ट्री एंड इकॉनोमिक्स, करंट वर्ल्ड अफेयर्स, और इंडियन फॉरेन पॉलिसीस. इन सब्जेक्ट्स के साथ ही आपको करंट अफेयर्स, और मोक क्वेश्चन पेपर भी पढ़ना होगा.

M.A. के बाद क्या करें? – 5 श्रेष्ठ विकल्पों की जानकारी।

MA ke baad kya kare

यदि आपने मास्टर ऑफ़ आर्ट्स (M.A.) के रूप में अपनी पोस्ट-ग्रेजुएशन (स्नातकोत्तर) डिग्री उत्तीर्ण की है और अब आप अपने भविष्य के विकल्पों के बारे में जानना चाहते हैं तो इस लेख के माध्यम से आपको M.A. के बाद के विकल्पों की जानकारी प्राप्त होगी। आपने चाहे किसी भी विषय से एमए क्या है M.A. डिग्री प्राप्त की हो, आपको यहाँ पर MA के बाद भारत में उपलब्ध विभिन्न बेहतरीन विकल्पों के बारे में जानकारी मिलेगी। अतः आइये जानते हैं कि M.A. के बाद क्या करें।

Table of Contents

M.A. के बाद क्या करें

यदि आपने आर्ट्स (Humanities) के सामान्य विषयों या भाषा विषयों में से किसी एक विषय से 2-वर्षीय M.A. डिग्री उत्तीर्ण की है तो आप M.A. डिग्री के बाद भारत में उपलब्ध निम्नलिखित 5 श्रेष्ठ विकल्पों में से कोई एक विकल्प चुन सकते हैं:-

यदि आप M.एमए क्या है A. डिग्री उत्तीर्ण करने के बाद अपने विषय में उच्च शिक्षा प्राप्त करना चाहते एमए क्या है हैं और साथ में शोध (रिसर्च) कार्य भी करना चाहते हैं तो इसके लिए डॉक्टरेट ऑफ़ फिलॉसॉफी (Ph.D) सबसे बेहतरीन विकल्प है। Ph.D डिग्री का लाभ यह होता है कि इसके बाद अभ्यर्थी NET परीक्षा उत्तीर्ण करने के उपरांत किसी विश्वविद्यालय (यूनिवर्सिटी) में सहायक प्रोफेसर (Assistant Professor) के पद के लिए आवेदन कर सकते हैं और प्रोफेसर पद तक पदोन्नति प्राप्त कर सकते हैं। MA डिग्री के कुछ विशिष्ट विषयों में Ph.D कोर्स उत्तीर्ण करने के उपरांत अभ्यर्थी विभिन्न विभागों में साइंटिस्ट (वैज्ञानिक) पद के लिए भी आवेदन कर सकते हैं।

निष्कर्ष

यहाँ पर इस लेख के माध्यम से आपको M.A. कोर्स के बाद भारत में मौजूद विभिन्न विकल्पों की जानकारी प्राप्त हुई है। आप इस जानकारी का लाभ उठा कर अपनी योग्यता और इच्छानुसार कोई विकल्प चुन सकते हैं।

आप हमारी वेबसाइट शिक्षाव्यवसाय.कॉम पर करियर, शिक्षा और रोजगार से सम्बंधित भारत में मौजूद विभिन्न विकल्पों की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

हिस्ट्री में कैसे बनाएं बेहतरीन करियर

archaeologist

  • नई दिल्ली,
  • 08 मई 2015,
  • (अपडेटेड 11 मई 2015, 11:06 AM IST)

अगर आपमें अतीत को जानने की ललक है तो हिस्ट्री को अपना करियर बना सकते हैं. इतिहास में आपको हर काल से जुड़े राजनैतिक, आर्थिक, सामाजिक परिस्थिति के बारे में जानकारी दी जाती है. इतिहास में विषय से जुड़े जो भी कोर्स हैं, वे बारहवीं के बाद ही किए जाते हैं. आप हिस्ट्री में ग्रेजुशन कर सकते हैं. ग्रेजुएशन के बाद पीजी, एमफिल और पीएचडी भी कर सकते हैं. आप चाहें तो आर्कियोलॉजी, म्युजियोलॉजी और आर्काइवल स्टडीज में स्पेश्लाइजेशन भी कर सकते हैं.

कहां मिलेगी नौकरी
अगर आप हिस्ट्री में बीए और एमए कर लेते हैं तो आपको सरकारी नौकरी भी मिल सकती है. आर्केलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया, सेना और सूचना प्रसारण मंत्रालय में काफी मौके होते हैं. अगर हिस्ट्री के साथ बिजनेस में भी रूचि है तो आपके लिए ऑक्शन हाउस में सेल्स, एमए क्या है नीलामीकर्ता और शोधकर्ता के ऑप्शन भी हैं. इसके अलावा आप टीचिंग, पत्रकारिता, लाइब्रेरी, क्यूरेटर, आर्काइव्स, म्यूजियम, इंटरनेशनल आर्ग्नाइजेशन, हिस्ट्रोरिक सोसाइटीज, नेशनल पार्क सर्विसेज में नौकरी पा सकते हैं.

DU PG एमए क्या है First Admission list 2022: MA, MSc कोर्स की मेरिट लिस्‍ट जारी, du.ac.in पर देखें

DU PG First Admission List 2022

  • नई दिल्‍ली,
  • 30 नवंबर 2022,
  • (अपडेटेड 30 नवंबर 2022, 5:04 PM IST)

DU PG First Admission list 2022: दिल्ली यूनिवर्सिटी (DU) ने विभिन्न MA और MSc कोर्सेज़ में दाखिले के लिए पहली एडमिशन लिस्‍ट जारी कर दी एमए क्या है है. जो उम्मीदवार डीयूईटी पीजी 2022 परीक्षा के साथ-साथ डीयू मेरिट आधारित एडमिशन के लिए आवेदन करने वाले थे, वे अब अपनी एडमिशन लिस्‍ट आधिकारिक वेबसाइट du.ac.in और एमए क्या है entry.uod.ac.in पर देख सकते हैं.

अब तक, डीयू पीजी पहली एडमिशन लिस्‍ट एमए फ्रेंच, एमए भूगोल, एमए जर्मन, एमए हिस्पैनिक, एमए इटालियन, एमए लाइफ लॉन्ग लर्निंग एंड एक्सटेंशन और एमए भाषाविज्ञान के लिए जारी की गई है. जिन उम्‍मीदवारों को इन कोर्सेज़ में दाखिला लेना है, वे वेबसाइट पर जाकर मेरिट लिस्‍ट चेक कर सकते हैं.

रेटिंग: 4.87
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 566
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *